गर्मियों में हो जाती है डिहाइड्रेशन की समस्या, जानें लक्षण कारण और बचाव के उपाय

गर्मियों में हो जाती है डिहाइड्रेशन की समस्या, जानें लक्षण कारण और बचाव के उपाय | vedikroots

 गर्मियों में तापमान बढ़ने पर हमारे शरीर के हाइड्रेशन के स्तर को बनाए रखने का महत्व बढ़ जाता है। गर्मियों में डिहाइड्रेशन एक लगातार होने वाली स्थिति है, जिसे यदि संबोधित किया जाए, तो स्वास्थ्य पर बड़े प्रभाव पड़ सकते हैं। हम इस ब्लॉग में गर्मियों में डिहाइड्रेशन के लक्षण, कारण और उपचार के विकल्पों के बारे में बात करेंगे। 

डिहाइड्रेशन के कारण

जब मानव शरीर पानी की अधिक मात्रा खो देता है, तो डिहाइड्रेशन का परिणाम होता है। डिहाइड्रेशन के सबसे विशिष्ट गर्मियों के कारण निम्नलिखित हैं:

  1. लंबे समय तक पसीना आना: पसीने के कारण शरीर से काफी पानी और इलेक्ट्रोलाइट की निकासी होती है। यदि हम इन तरल पदार्थों से रिहाइड्रेट नहीं करते हैं, तो इसका परिणाम डिहाइड्रेशन हो सकता है।
  1. ऊंचा तापमान: गर्मियों के दौरान, तापमान में काफी वृद्धि हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप अत्यधिक पसीना और डिहाइड्रेशन हो सकता है।
  1. अपर्याप्त पानी का सेवन: गर्मी के दौरान, हम अक्सर आवश्यकता से कम पानी का सेवन करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप डिहाइड्रेशन हो सकता है।
  1. चीनी पेय पदार्थ: शराब, चाय और कॉफी ऐसे पेय पदार्थों के उदाहरण हैं जो मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करके और पेशाब की आवृत्ति में वृद्धि करके डिहाइड्रेशन का कारण बन सकते हैं।

डिहाइड्रेशन के लक्षण क्या है?

इसे रोकने के लिए उचित उपाय करने के लिए डिहाइड्रेशन के लक्षणों को पहचानना आवश्यक है। गर्मी के मौसम में डिहाइड्रेशन के सामान्य लक्षण हैं:

  1. मुंह और गला सूखना
  1. थकान और कमजोरी
  1. चक्कर आना
  1. गहरा पीला मूत्र
  1. सिरदर्द और मतली
  1. शुष्क त्वचा और होंठ
  1. मांसपेशियों में ऐंठन

डिहाइड्रेशन से बचने के उपाय

डिहाइड्रेशन को रोकने के लिए सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है क्योंकि इससे बड़ी स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं। निम्नलिखित कुछ निवारक कदम हैं जो आप इस गर्मी में उठा सकते हैं:

  1. ढेर सारा पानी पिएं: डिहाइड्रेशन से बचने का सबसे अच्छा तरीका है ढेर सारा पानी पीना। रोजाना कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए।
  1. चीनी वाले पेय पदार्थों से दूर रहें: इनमें शराब, चाय और कॉफी शामिल हैं। इन पदार्थों के कारण बार-बार पेशाब आता है, जिससे व्यक्ति डिहाइड्रेट हो जाता है। जितना हो सके इन पेय पदार्थों से दूर रहें।
  1. पानी से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं: गर्मियों के दौरान, खरबूजे, खीरे और संतरे जैसे पानी की मात्रा वाले खाद्य पदार्थों का सेवन आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद कर सकता है।
  1. हल्के रंग के कपड़े पहनें: हल्के रंग के कपड़े पहनने से आप ठंडे रहेंगे और अत्यधिक पसीना आना बंद हो जाएगा, जिससे डिहाइड्रेशन हो सकता है।
  1. पीक ऑवर्स के दौरान बाहरी गतिविधियों से बचें: गर्मियों में, बाहरी गतिविधियों से दूर रहने की कोशिश करें जब तापमान अपने अधिकतम स्तर पर हो।
  1. सनस्क्रीन लगाएं: सनबर्न और अत्यधिक पसीना, दोनों के परिणामस्वरूप डिहाइड्रेशन हो सकता है, सनस्क्रीन के उपयोग से डिहाइड्रेशन से बचा जा सकता है।
  1. व्यायाम करते समय नियमित रूप से रुकें: यदि आप गर्मी में व्यायाम कर रहे हैं, तो पानी पीने के लिए नियमित रूप से रुकें और पसीने के माध्यम से खो जाने वाले तरल पदार्थों को बदलें।

डिहाइड्रेशन किसकी कमी से होता है? - पानी का महत्व

रोग कितना गंभीर है, इसके आधार पर डिहाइड्रेशन के इलाज के लिए अलग-अलग मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है। जबकि पानी और अन्य तरल पदार्थों का सेवन अक्सर हल्के डिहाइड्रेशन से राहत दे सकता है, गंभीर मामलों में डॉक्टर द्वारा इलाज की आवश्यकता हो सकती है।

डिहाइड्रेशन के विभिन्न चरणों को समझना यह पता लगाने के लिए महत्वपूर्ण है कि इसके उपचार के लिए कितना पानी आवश्यक है। आमतौर पर, डिहाइड्रेशन को तीन चरणों में विभाजित किया जाता है: हल्का, मध्यम और गंभीर।

हल्का डिहाइड्रेशन

यदि शरीर अपने पानी के वजन का 1-2% खो देता है, तो इसे हल्का डिहाइड्रेशन माना जाता है। शुष्क त्वचा, धँसी हुई आँखें, और तेज़ दिल की धड़कन, ये सभी हल्के डिहाइड्रेशन के लक्षण हैं। पानी या अन्य तरल पदार्थ, जिनमें स्पोर्ट्स ड्रिंक या नारियल पानी शामिल हैं, अक्सर हल्के डिहाइड्रेशन के इलाज के लिए उपयोग किए जा सकते हैं।

चिकित्सीय सलाह के अनुसार  हल्के डिहाइड्रेशन का इलाज करने के लिए प्रति दिन 1.5 से 2 लीटर तरल पदार्थ या 6 से 8 गिलास पानी पिएं।

मध्यम निर्जलीकरण

जब शरीर अपने पूरे शरीर के वजन का 3-5% तरल पदार्थों में खो देता है, तो इसे मध्यम डिहाइड्रेशन माना जाता है। शुष्क मुँह, प्यास, और गहरे पीले रंग का पेशाब, ये सभी मध्यम डिहाइड्रेशन के लक्षण हैं।

चिकित्सीय सलाह के अनुसार  मध्यम डिहाइड्रेशन का इलाज करने के लिए प्रति दिन 2 से 4 लीटर तरल पदार्थ या 8 से 16 गिलास पानी पिएं।

गंभीर  डिहाइड्रेशन

जब शरीर अपने पानी के वजन का 5% से अधिक खो देता है तो उसे अत्यधिक डिहाइड्रेशन माना जाता है। गंभीर निर्जलीकरण सुस्ती, भ्रम और कमजोर नाड़ी के रूप में प्रकट होता है। अत्यधिक  डिहाइड्रेशन के लिए तत्काल चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता होती है क्योंकि यह एक चिकित्सा आपात स्थिति है।

अत्यधिक  डिहाइड्रेशन के मामलों में, हालत का इलाज करने के लिए अंतःशिरा तरल पदार्थ की आवश्यकता हो सकती है। नाक के माध्यम से (सीधे एक नस में) दिए गए तरल पदार्थ शरीर द्वारा जल्दी अवशोषित कर लिए जाते हैं। गंभीर रूप से  डिहाइड्रेशन रोगियों के इलाज के लिए कितने अंतःशिरा द्रव की आवश्यकता होती है, यह रोग की गंभीरता और रोगी के शरीर के वजन पर निर्भर करता है।

निष्कर्ष

डिहाइड्रेशन गर्मियों के समय की एक सामान्य बीमारी है, जिसका अगर इलाज नहीं किया जाता है, तो किसी के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। निर्जलीकरण के लक्षणों को पहचानना और उन्हें रोकने के लिए सावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। गर्मियों में पर्याप्त मात्रा में पानी पीने, मूत्रवर्धक पेय पदार्थों से दूर रहने, पानी से भरपूर भोजन करने, हल्के रंग के कपड़े पहनने, भीड़-भाड़ वाली बाहरी गतिविधियों से बचने, सनस्क्रीन का उपयोग करने और व्यायाम करते समय विराम लेने से निर्जलीकरण को रोका जा सकता है। अच्छी सेहत बनाए रखने के लिए खुद को हाइड्रेटेड रखें!

 

 

0 comments

Leave a comment